Honest word

i don't fear the truth

दिल्ली के दिल मे कौन भगोड़ा यहा पुलिसवाली?

सर्रदियों मे चाय की चुस्की लेते हुये मैंने एक दिन सोचा आखिर दिल्ली मे दंगल क्यूँ है? दिल्ली की जनता क्यूँ परेशान है। दिल्ली के लोग फालतू मे अपना समय खराब कर रहे है एक न एक दिन दिल्ली मे किसी की तो स्थई सरकार बन ही जाएगी चाहे वो आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल की हो यहा पूर्व पुलिस अधिकारी किरण बेदी की हो । दिल्ली के दिल मे जो हो वो उससे 10 फरवरी को मिल जाएगी। आखिर दिल्ली के लिए मैं क्यूँ परेशान हूँ मुझे कौनसा दिल्ली मे भगोड़ा की सरकार चाहिये, मैं तो शांति से इलाहाबाद मे घर पर दिल्ली का दर्द देख रही हो मीडिया के जरिये जोकि दिल्ली के सीएम कैंडिडैट ने मनीफेस्टो यानि की अपने वादो मे की है।

images
कुछ हो न हो पर यह सीएम कैंडिडैट वादो और एक दूसरे पर आरोप आलोचन लगा-लगा कर इतना दिल्ली वालों को दर्द दे रहे है जैसे की उनलोगों की सरकार बनते ही यह सीएम कोई जादू की छड़ी घूमएज्ञे और उनके सारे वादे पूरे हो जाएज्ञे। एक बात बता दे सरकार चलना कोई बच्चो का खेल नहीं है। सरकार वही चला सखता है जिसके पास सालो का तजुरबा हो, अरविंद केजरीवाल तो भगोड़ा है, 49दिन की सरकार चला के इस्तीफा दे दिया उनपे कैसे भरोसा किया जाए की इस बार वो भगोड़ा पन नहीं करेंग्ये।
अरविंद केजरीवाल की पार्टी का नाम क्यू आम आदमी पार्टी है? आखिर कौनसा आम आदमी बिज़नस क्लास मे चलता है, कौन सा आम आदमी पार्टी फ़ंड जुटाने मे 5स्टार होटल मे लंच करते है,कौनसा आम आदमी लाल बत्ती से चलता है सब जगह केजरीवाल साहब ऐश करते है सान शौकत से रहते है सारे तेवर बड़े आदमी जैसे फिर भी नाम आम आदमी। यह तो वही बात है जब कोई बहुबली नेता किसी जवान शहीद के घर जाता है और कहता है की उसको परिवार की तकलीफ का एहसास है ।
चुनावी माहौल मे एक बात तो साफ है इस चुनाव मे काँग्रेस को कुछ नही मिलेगा और पूरा चुनाव है बीजेपी बनाम केजरीवाल। वो बात दूसरी है बीजेपी मास्टर स्ट्रोक चलती है और केजरीवाल बस खास्ते हुए मफ़लर ठीक करते हुये बस हाथ मलते रेह जाते है । बीजेपी ने जैसे ही किरण बेदी को सीएम पद का ऊमीद्वार बनाया पूरी दिल्ली मे वोटेरो के बीच खूशनुमा माहौल बना है। बीजेपी जहा लोगो को अपने मोदी के कार्यकाल से जनता को लुभा रही है वही केजरीवाल आरोपो का लांछन बीजेपी काँग्रेस पर लगा रही है ।

1784_1-5
बीजेपी ने पूरा लोक सभा चुनाव मोदी के नाम पर लड़ा वही अब दिल्ली के विधान सभा के 70 सीट का चुनाव वो अब सीएम पद की ऊमीद्वार किरण बेदी के नाम पर लड़ रही है एवं मोदी सरकार के 9महीने के कार्यकाल पर । वही केजरीवार जोकि 49दिन की सरकार बनाके भाग गए उस 49 दिन के नाम पर वोट मांग रहे है। देखते है दिल्ली की जनता जिसको चुनती है दबंग पुलिस अधिकारी बेदी जोकि ईमानदार एवं सामाजिक कार्यकर्ता के साथ साथ लंबा अनुभव है यहा केजरीवाल जोकि आम आदमी है और 49दिन तक सरकार बनाई थी।

Leave a comment »

मीडिया हरकत मे आई फिर पुलिस ने पिटाई लगाई

संत रामपाल के खिलाफ ताज़ा गैर जमानती वारंट जारी हुआ है, उन्हे 21 नवंबर कोर्ट मे पेश होना है। अब आप सब सोच रहे होगे की आखिर यह संत रामपाल है कौन? रामपाल हरियाणा के गुरु है इनपर दो केस चल रहे है पहला वर्ष 2006 मे एक व्यक्ति की मौत इनके रोहतक आश्रम मे दूसरा कोर्ट की तौहीन (Contempt of court)। तीन दिन(20नवंबर) के अंदर अगर रामपाल कोर्ट मे पेश नही हुये तो मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को पेश होना होगा। रामपाल को सोमवार को पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट मे पेश होना था पर बीमारी का बहाना बता के वो कोर्ट नहीं आए,

दरासर वो थोड़ा मीडिया से नाराज़ है। सारी मीडिया उनको पूछती नहीं सब या तो बाबा आशाराम या बाबा रामदेव की कवरेज करते है कोई भी रामपाल को नहीं पूछता इसीलिए सुर्किया बटोरने के लिए रामपाल ने यह पेतरा अपनाया ।
जैसे ही संत रामपाल ने कोर्ट मे आने को माना कर दिया, रामपाल के हजारो समर्थक आश्रम के बाहर बैठ गए, रामपाल बच्चो और महिलाओ को ढाल बना कर ड्रामा कर रहे है। अरे भैया जितने समर्थक पुलिस का विरोध कर रहे थे शायद उतने फौजी जवान कश्मीर मे नहीं होते वरना आए दिन सीज फायर का उलंगन सुनाई नहीं देती। पाकिस्तानी सेना हमारे सेना जवानो पर हमला ना करती।

मेरे खयाल से संत रामपाल बड़े ही देशभक्त इंसान है तभी तो उनके पास बहुत ढेर सारे हथियार है जिससे वो हरियाणा के लोगो की सुरक्षा करेगे तभी तो उनके समर्थन के लिए भरी भीड़ जुटी है। अगर आतंकवादी देश पर हमला बोल दे तो संत रामपाल सारे अंतकवादियों को डरा के भागा देंगे तभी तो उन्होने अपने आश्रम मे एसिड बॉम्ब , पेट्रोल बॉम्ब , क्रूड-ऑइल का टैंक, तेजाब , एसिड का भंडार जमा कर करके रखा है। पत्थर के ढेरे इखट्टा कर रखा है। कितने दूर दर्शी है श्री रामपाल जी, इतना दूर का तो हमारा दूरदर्शन भी नहीं सोचता होगा जितना इन महाराज ने सोच लिया। वाह जानके अच्छा लगा हमारे रक्षा मंत्री जी को देश की सुरक्षा के लिए हथियार आपने देश से ही लेना पड़ेगा, आखिर मोदी जी का “मेक इन इंडिया” का सपना पूरा हो गया ।

police beating media person

police beating media person

आप सब लोग हमारी पुलिस से तो वाकिफ होगे ही दुसरी सुखद बात उनही पर यह है की आज बेचारे मीडिया कर्मी तो अपने दायरे मे रह कर कवरेज कर रहे थे पर रामपाल के आश्रम के बाहर पुलिस ने मीडिया कर्मियों को खूब पीटा, उनके कैमरे तोड़ दिया। पुलिस जनता की मदद के लिए तत्पर रहती है, पुलिस के आला अफसर हमेशा सोते नहीं है बल्कि अपने बल से जनता को सुला ही देते है। आज मैंने न्यूज़ मे देखा की हरियाणा पुलिस ने 20 मीडिया कर्मियों को बलभर पिटा, यह जालिम समाज कभी भी दयालु- कर्मठ पुलिस को समझ नहीं सकती। बड़े सौभाग्य की बात है की मीडियाकर्मी पुलिस के डंडे के शिकार हुऐ, बड़े भाग्यवान होते है वो जो पुलिस के हत्ये चड़ते है। कुछ इतने भाग्यवान होते है की पुलिस अपना जादू का डंडा चलाती है तो वो सीधे स्वर्ग के दर्शन को प्रस्थान करते है। हमसबको हरियाणा सरकार का शुकगुजार होना चाहिये क्यूंकी सरकार ने पुलिस को डंडा दिया है आप समझदार है आखिर क्यूँ?

— written by Anu Saxena
pic from google.

3 Comments »

हिन्दी भाषा कभी समाप्त नहीं हो सख्ती है।

आज हिन्दी दिवस है। हिन्दी दिवस पर सभी को शुभ कामनाए । 14सितंबर1949 को देवनागरी लिपि को केंद्र की सरकारी भाषा बनाई गयी थी । आज का दिन इस लिए महतवपूर्ण है क्यूंकी हिन्दी 30करोड़ से भी ज्यादा लोगो की मातृ भाषा है,जो की विश्व की चौथी बड़ी बोलने वाली भाषा है।
अंग्रेज़ो ने भारत को 200 साल तक शासन किया जिसका कही ना कही असर दिखता है, आज हर जगह भारत मे अंगेजी माध्यम के स्कूल-कॉलेज फल-फूल रहे है, हर माँ-बाप अपने बच्चे को इंग्लिश मीडियम स्कूल मे भेजना पसंद करते है, कोई नहीं चाहता की उनका बच्चा हिन्दी मीडियम मे पढ़ाई करे।
भाषा तो भाषा होती है चाहे वह अंगेजी ,बंगाली,उर्दू या हिन्दी हो। सब भाषा का काम है की एक दूसरे को बांधे रखे फिर भी हम भाषा की राजनीति मे फंस जाते है। जैसे महाराष्ट्र मे मराठी बोलेंगेए,बंगाल मे बंगाली बोलेंगेए ,और दक्षिण भारत मे तो नारा तक दे दिया की- “हिन्दी नेवर इंग्लिश एवर (hindi never English ever)” । सब लोग अपनी छेत्र की भाषा बोलते है,लेकिन भारत की भाषा कोई नहीं बोलता, आज भारत को आज़ाद हुये 67साल हो गए है है फिर भी भारत की कोई राष्ट्र भाषा नही है,हिन्दी सिर्फ राज्य भाषा का दर्जा प्राप्त कर पायी है।
जैसे जैसे आधुनिक युग है ,हिन्दी अपनी रफ्तार पकड़ रही है, केंद्र सरकार ने हिन्दी मे ज़ोर दिया है, आज हर दफ्तर मे हिन्दी का प्रयोग होता है, आज हिन्दी चैनल के न्यूज़,सिरियल्स, फिल्म सबसे ज्यादा देखी जाती है। अब तो क्रिकेट की कोममेंटरी तक हिन्दी मे आती है। मोबाइल के प्रसार, फेस्बूक हर जगह आप हिन्दी का पेज और उनका प्रयोग कर स्ख्ते है। हर स्मार्ट फोन मे हिन्दी भाषा का फॉन्ट उपलब्ध है। आज इंडिया मे 40% लोग इंटरनेट मे हिन्दी का प्रयोग करते है।
सबलोग सोच रहे थे की अँग्रेजी भाषा हिन्दी को खत्म कर देगी ,लेकिन हिन्दी ने अपने आप को नए अवतार मे सबके सामने पेश किया, जिसका श्रेय जाता है सभी हिन्दी भाषी को जिनहोने हिन्दी का प्रयोग किया सोश्ल मीडिया,मोबाइल,इंटरनेट , अखबार ,रेडियो और सभी सरकारी दफ्तरो मे।
केंद्र सरकार का हिन्दी का प्रयोग से हिन्दी को बल मिला है, उन्होने अपने हर मंत्री को हिन्दी के प्रयोग पर ज़ोर दिया, प्रधानमंत्री मोदी ने शपथ भी हिन्दी मे लिया जिससे विदेशो मे यह पैगाम गया की भारत मे अगर पैर जमाना है तो हिन्दी मे केन्द्रित रहे। यहा तक की मोदी ने हर जगह देश-विदेश मे हिन्दी मे ही भाषण दिया, जिससे हर जगह हिन्दी मे लेख-आलेख की होढ़ लग गयी। आज हिन्दी किसी भी प्रकार से किसी से कमज़ोर नहीं है। कमजोर वो लोग है जो हिन्दी को किसी से कम मानते है, आज हिन्दी का प्रयोग सिर्फ भारत मे ही नही पूरे विश्व मे हो रही है, आज हिन्दी की लोकप्रियता के कारण हिन्दी के अनुवादक की मांग पूरे विश्व मे है। हर किसी को भारत को समझना है तो हिन्दी को समझे क्यूंकी हिन्दी मे हिन्द है और हिन्द मे हिन्दी है। हिन्दी भाषा कभी भी भारत से समाप्त नही हो सख्ती है इसीलिए इस भाषा का आगे बहुत तेज़ी से प्रयोग बढने वाला है. हिन्दी का उजवाल भविष्य है। लोग हिन्दी दिवस का त्योहार बना के इस बात को मानते है की हिन्दी अपने आप मे एक खूबसूरत राज्य भाषा है भारत की जिसको राष्ट्र भाषा का दर्जा मिलना चहेए पर किनही वर्श नहीं मिल पाया, आज के दिन हम सबको संकल्प लेना चहेए की हम हमेशा हिन्दी को बढ़ावा देंगे।

Anu Saxena

anusaxena420@gmail.com

4 Comments »

रक्षा बंधन की घटना

index

मैं एक कहानी बताती हु। साल2013 के रक्षाबंधन के दिन सुबह मैं बहुत खुश थी क्यूंकी मुझे राखी बांधना था भाई लोगो को।तभी मुझे याद आया की मेरे सारे भाई-बहन तो लखनऊ मे है।मैं सोचने लगी की मे किसको राखी बांधू सब तो बाहर है तभी यही सोच के मैं दुखी हो गयी।मैं शनि देव के मंदिर गयी वह फूट-फूट कर रोने लगी और फिर शिकायत कि भगवान से की मेरा कोई भाई आज उपस्थित क्यूँ नहीं है,10-15मिनट के बाद घर से फोन आने के बाद मे अपने घर की और प्रस्थान कर ही रही थी की तभी वहा एक पुजारी आया और मेरा रास्ता रोक ते हुये पूछा, ”क्यू रो रही थी?” मैं जल्दी मे थी इसलिए उसका चेहरा ठीक से नहीं देख पायी और हरबड़ी मे उत्तर दिया, “बस भाई लोगो का इंतज़ार था!”, इसपर मंदिर का पुजारी बोला,”मैं भी यहा मंदिर मे रहेता हु मुझे किसी ने राखी नहीं बांधी,तुम चाहो तो मुझे ही राखी बांध दो”। मैंने सोचो यह नया पंडित है,बांधदेते है दोनों खुश। राखी के बाद मैं बिना कुछ बोले वहा से चली गयी। इससे पहले वो कुछ बोलता यह मे उसको ध्यान से देख पाती,मे बस निकाल गयी क्यूँ कि मुझे थोड़ा सा अजीब लग रहा था,मंदिर खाली था,रास्ते मे भीड़ नहीं थी,और देर हो रही थी। घर आके मेँ रिश्तेदारो के यहा चली गयी। दूसरे दिन मेरा कॉलेज खुल गया था,मैं पढ़ाई मे व्यस्त हो गयी थी,इस घटना को बीते कई दिन हो गए थे।एक दिन अचानक शनिवार को मुझे उसी शनि मंदिर जाना था ।शनिदेव कि मूर्ति देखकर मुझे रक्षाबंधन कि घटना याद आ गयी,मेरे सामने व्ही चित्र आ गया,मेरे मन मे आया कि चलो उस पुजारी से मिला जाए, मे मंदिर के महापुजारी के पास गयी, मैंने उनसे पूछा,”पंडित जी आपके यहा जो नए पंडित आए है उनको जरा बुला दिये” , इसपर उन्होने उत्तर दिया,”बेटा हमारे यहा कोई नया पंडित नयी है,जो भी है सब यहा आरती मे उपास्थिक है।” मैंने फिर उनको याद दिलाया,”पंडित जी याद करे पिछले महीने एक पुजारी था,मध्य काठी,हल्का काले रंग के थे।”, इसपर उन्होने फिर मुझसे कहा ऐसा कोई पंडित नहीं है यहा। मैं एकदम परेशान और सोचने लगी आखिर कौन था वो पंडित? मैंने किसको राखी बांधी? आखिर उसने क्यूँ मुझसे राखी बँधवाई? आखिर उसकी मंशा क्या थी?मै समझ नहीं पा रही थी कि वो पुजारी कौन है? मैं उस बात को आज भी भूल नहीं पायी। अपने काम मे अब व्यस्त हो गयी,लेकिन आज एक साल बीतने के बाद भी यह घटना मेरे दिमाग मे ताज़ी बनी हुयी है,आज भी उस पुजारी कि तलाश है।

4 Comments »

Fanatical and zealous believer of LORD SHIVA

Shiv ji

Sawan is the auspicious day among all Hindus. Sawan month is dedicated to lord Shiva. Sawan is the month in which the people obeisance fast and pray to their lord. Shiv is considered as lord of the lord that is why he is called devon ke dev”mahadev”. There is a story that Goddess devi offer fast and dedicated the poojas as she considered mahadev as her husband while she was living in her father’s home. In this sawan month only lord shiva has come with his barat to attend his marriage. Till now lord shiva’s pilgrims think that lord shiva will come in this mortal world during the sawan month. Girls observe fast because they too want husband like mahadev and boys observe fast as they too want their wife as goddess parvati.
I am the follower of lord shiva, I took mahadev as my father. I define him as the perfect example for all of you. He is just not the lord of hindus, one can learn so much from his life and attire. Lord Shiva is the example of perfect husband,father and mentor in this world. Lord Shiva is called bholenath because he is considered as the most innocent god among all the hindu god. He believes in love behind the devotee’s offering. I am going to define lord shiva in my terminology. What does everything denotes. Lord shiva is always seen with trishool,damru,serpent,moon,gange,rosary beeds and tigercloth. These things completely define the personality of lord shiva. Lets understand lord Shiva through my eyes.
Lord shiva has Trishool- trident represents the power of three, knowledge,desire and implementation . one can succeed only he has these.
Drum- represents the sounds- the words of Vedas, the holy scriptures given by the lord to guide our mortal life.
Snake- serpent signify the ego which we have to control and worn as ornaments. Our ego should always remain below to our thought. Ego can destroy us so we should not take action on basis of our ego.
Rudrashak beed- represents the purity. One should be pure to our actions. Only pure action will lead to salvation. If you want to go to shivlok then your action should be pure.
Ganga on top- Ganga is consider as mother. one should respect our mother,we will always remain below the nature and pass wisdom from one generation to other.
Moon- represents that lord is the master of time. Lord will control our time so we should not be sad or happy because of time. Lord will change our time soon. As moon changes its shape our time will change soon.
Third eye- large oval dot on forehead is the third eye of knowledge which if opened, reduced to ashes the person in its vision. It is the symbol of destroyer of evil and ignorance.
Tiger cloth- shiv is seen sitting at tiger cloth because tiger is strength, fearless. It donates that lord Shiva is brave, courageous and most powerful in this world.

 

3 Comments »

सभी को खुश करने वाला बजट

10जुलाई को वित्त मंत्री अरुण जेटली ने संसद मे आम बजट पेश किया। आम बजट सच मे आम लोगो के मद्दे नज़र बनाया गया है। इस गर्मी मे मंत्री आम तो खिला नहीं सखी पर हा आम बजट से आमो का खयाल रखा गया है। वित्त मंत्री ने सभी को लुभाने की कोशिश की है चाहे वृद हो, औरत हो, बच्चे हो, युवा हो। सभी के लिए अच्छे दिनो की सौगात लेके आया है वित्त मंत्रालय। आम जनता को तो जीडीपी,इराक संकट,निफ्टी के मूल से मतलब नहीं उन्हे तो बस इंतज़ार रेहता है क्या सस्ता हुआ? क्या महंगा हुआ इस साल । आइये देखते है इस साल का बजट- वित्त मंत्री ने छात्रो को खुश किया 5नई आईआईएम और 5आईआईटी का तोफा देकर। वही उन्होने ऐलान किया की खेल की विश्वविधालय खुलेगे मणिपुर मे जिसके लिए उन्होने 100करोड़ देने का फैसला किया। वही मरीजो को स्वस्थ करने के लिए 4नई एम्स खोलने का ऐलान किया। यह एम्स आंध्रप्रदेश,महाराष्ट्रा,बंगाल और यूपी मे बनेगा। रोड मे ट्रेफिक होने की वजह से नए हवाई अड्डे बनेगेये टाइयर2 और टायर3 शहरो मे। वही देश की शुरक्षा के लिए एफ़डीआई को 26% से बढ़ा के 49% करदी लेकिन इसकी बागडोर रहेगी भारत सरकार के हाथो । वही युवाओ को लुभाते हुये डब्बेखाना सस्ता हुआ,चप्पल और खेल के समान सस्ता कर दिया। वही उनको स्वस्थ रखने के लिए तंबाकू,पानमसाला,सिगरेट,कोल्डड्रिंक के दाम बड़ा दिया। वही लड़कियो को बढावा देने के लिए उनकी पढ़ाई का खर्च सरकार उठाएगी। जो लोग पेंशन के अंतर्गत आते है उनको 1000रुपए महिना पेंशन मिलेगा। इतना बजट सुनके आप थक गए होएगेए ,आपके जीवन मे मनोरंजन को बढ़ावा देना चाहती है सरकार तभी आपके लिए एलसीडी,एलईडी टीवी सस्ती करदी उसपे से कस्टम हटा के। खैर देश के लिए अच्चे दिन आए ना आए पर जिनहे देश की परवाह है उनके लिए अच्छा है की इस बजट मे देश को सुरक्षित रखने के लिए कड़वी दवाई पिलाई जरूर लेकिन मनोरंजन और स्वस्थ को मद्देनजर रख कर अच्छे दिन की कामना की है।

1 Comment »

30 दिन हो गए! अच्छे दिन कब आएगये?

आज से ठीक 1महीने पहले नरेंद्र मोदी ने 26मई को प्रदानमंत्री पद की शपथ गहण की थी। मोदी ने देश वासियो को आश्वासन दिलाया था की अगर वो पीएम बने तो अच्छे दिन आ जाए गे और उनका स्लोगन बन गया “अच्छे दिन आने वाले है” । मोदी ने अपने काम की पारदर्शिता लाने की बात कही थी और मंत्रियो को बताया की बाते कम काम ज्यादा। जो मोदी हमेशा टीवी मे छाए रहेते थे वो अचानक पीएम बनते ही टीवी से गायब हो गए। मोदी पड़ोसी देश के लिए अच्छे दिन लाने वाले है तभी मोदी की शपथ मे सारे पड़ोसी देश के पीएम आए थे और मोदी ने उनका स्वागत हिन्दी भाषण से किया। मोदी ने पाकिस्तान पीएम नवाज सरीफ़ पर डिप्लोमेसि के पेतरे चले,मोदी ने शरीफ की माँ के लिए एक कश्मीरी शौओल तोहफे मे दिये वही शरीफ ने मोदी की माँ हिराबा को एक सफ़ेद साड़ी भेट मे दिया। अमेरिका ने मोदी का वीजा 8 साल से कुंडली मारके बैठे थे अब मोदी के पीएम बनते ही मोदी को अमेरिका का बुलावा भेज दिया। मोदी भी तेज़ निकले उन्होने बुलावा स्वीकार कर लिया और पहली विदेश यात्रा भूटान क लिए निकाल गए। भूटान की संसद मे मोदी ने हिन्दी मे भाषण दिया। मोदी ने हिन्दी के लिए अच्छे दिन की शुरुवात कर दी, मोदी सरकार चाहती है की सोश्ल मीडिया मे ज्यादा से ज्यादा हिन्दी का प्रयोग हो हाँकी दक्षिण भारत मे इसका खाफी विरोध हुआ। मोदी ने रक्षा मंत्रलाया को अच्छे दिन देने के लिए आईएनएस विक्रमादित्य देश को समर्पण किया। मोदी सरकार ने देश को अच्छे दिन के लिए काले धन वापस लाने का अजेंडा देश के सामने रखा, जिसमे उन्होने एसआईटी का गठन किया और स्विस बैंक से काले धन का ब्योरा मांगा। मोदी ने हर मंत्री को नसीयत दी की कोई भी मंत्री अपने रिश्तेदार को फायदा नही पाहुचे एवं 10पॉइंट का अजेंडा तयार करे 100दिन के लिए। मोदी ने बोला की उनके हर मंत्री अपने संपाति का ब्योरा दे । मोदी ने यह तक कह दिया की अनुछेद370 हटना चहेए ताकि अच्चे दिन आ जाए। मोदी ने यह तक कह डाला की अच्छे दिन के लिए कड़वी दवा देश को लेना पड़ेगा और कड़े फैसले लेने होगेए। यह कड़े फैसले है रेल का किराया 14% बड़ गया, भाड़ा किराया 6% ,चीनी की कीमत40%,पेट्रोल डीजल,केरोसिन सबकी कीमत भडा दी गयी है। मोदी राज्य मे राम राज्य आए या ना आए पर महंगाई बढ़ गयी। राज्यपालो को हटाने की नसियत दी गयी है आगे आगे देखिये होता है क्या? यह महंगाई इराक संकट की वगह से बढ़ाई गयी है। मोदी के अच्छे दिन आने से सेंसेक्स ,सोने के भाव,रुपए की कीमत, मे काफी उछाल आया है, इसको आप देश के लिए अच्छे दिन आने वाले है मान लिए या कड़वी दवाई का घूट पीकर सिर्फ बादलो को देखते हुए मानसून का इंतज़ार करिये।

5 Comments »

कमल का कमाल

लोक सभा मे बीजेपी की जीत से आखिर कमल खिल ही गया । यह कमल का ही कमाल था जो इस चुनाव मे सबसे पुरानी पार्टी काँग्रेस की हार करवाई । काँग्रेस को करारी हार झेलनी पड़ी। काँग्रेस की इतनी दुर्गति तो 1977 मे हुई थी जब आपातकाल मे इन्दिरा गांधी के खिलाफ चुनाव हुए थे। पूरे उत्तर प्रदेश मे काँग्रेस को सिर्फ 2सीट मिली। इस कमल की वजह से ही डीएमके और बीएसपी को अपने छेत्र यहा तक की देश मे एक भी टिकिट नही मिला।

Image

चुनाव प्रचार मे सबने मोदी पर खूब कीचड़ उछला पर भूल गए की जितना कीचड़ बड़ेगा उतना कमल खिलेगा । इस कीचड़ की वगह से भारत की लोक सभा मे 300 से जादा कमल खिल गए जिससे हाथी पतला होने भाग गया,हाथ कट गए, झाड़ू साफ हो गयी, लालटेन बुझ गयी, सूरज ढल गया, साइकल पंचर हो गयी। रह गयी तो सिर्फ कमल की खूसबू इस संसद मे। मोदी की लहर है तो देश मे तभी खहर बन के गिरि इन नेताओ पर।

Image

एनडीए सरकार की जीत का जाइका लेने पाहुचे राम विलास पासवान, जगदंबिका, नायडू अब तो जगनमोहन रेड्डी भी एनडीए का समर्थन करने को तयार है।
लोग कहते है की अच्छे दिन आने वाले है,मोदी पीएम बनें वाले है, जिसका आगाज शेयर बाज़ार मे जबर्दस्त उछाल से देखा गया ,अब तो बस यही देखना है की मोदी जिन वादो के आधार पर चुनाव लड़े है क्या उसको पूरा करेगे?

Leave a comment »

Road to remeember; 7RCR

Road to 7RCR
Indian prime minister resides at 7 Race Course roads. Every political party is looking forward to become Prime Minister of India in order to live at 7RCR, Delhi.

Image

The battle is among Narendra Modi,Arvind kejriwal and Rahul Gandhi 

Today was the last phase of lok sabha poll held’s. The elections are over now. Now everyone is looking forward to the result of election. Voters want to know was there “modi wave” or just the media created the modi image in the nation. This election nation has saw many things and undergone through many incidents. Let’s have a look what did happen in these lokh sabha elections.

Image

For the first time India got the NOTA option for the voters to vote for none of the candidates. Interesting campaigns round up by all political party. The campaigns held on social media, 3Drallies held. Every political party left no stone unturned to appeal themselves to get the votes. Every political party had tried to attract the voters to get the majority votes to come in majority at lok sabha election. Bhartiya janta party insisted about having modi wave in the country. They will not only win but make clear cut majority in the lower house. This election has seen the power of all the political party. The party members had gave mocking remarks on each other. Derogatory remarks were delivered on Narendra modi. Election commission took action against many leaders who delivered the hate speeches like action took against Ahmed patel, Amit Shah,Abu Azmi, Azam Khan, Mulayam singh etc.
Many political party come forward to make alliance. Telgu Desham Party, Karnataka Janta paksha, Ram paswan’s LJP many more. Which stated that BJP will win more than 272 seats in lokh sabha.  DMK and AIADMK still maintain the silence over the supports of Modi which can be seen as these two parties can support NDA government by given outer support. In short I can that modi factor work in south too jaya remains queen in Tamil naidu and Yeddurappa,

Image

Chandrababu naidu is supporting Modi Which directly help modi to reach 7RCR.
This election hot topic was Varanasi and Modi . Varanasi is royal city now as soon as Narendra modi declares to contest election from varansi, Kejriwal too declares his contest from Varanasi which leads to make the old city into battle field. Varanasi steels the shows as it catches the attention of the media. All the media paid attention to the public grievances of Varanasi, Narendra Modi Pm candidate of BJP thought that Varanasi is the safe place to contest election so he replaces the Murli manohar Joshi in Varanasi but his dream was shattered as soon as kejriwal, Ajit Rai jump to Varanasi seat as they will cut the Muslim votes of BJP.
Congress,Samajwadi party,Bahujan samaj,Trimool, third front all of them criticized  Narendra Modi and appealed people not to vote the communal person. They all did negative publicity for modi but forgets one thing that they attracted the public, media and voters.
There can be many reasons which can go in favor of BJP to win. First the publicity, advertisement and PR was very strong . Secondly BJP play safe and tried to attract the minorities by showing the working and prosperity of minorities in Gujarat. Thirdly Modi is shown as man of development, everywhere the appraisal of Gujarat model was there. Fourth everyone is fed up with congress party, congress is totally failed in controlling inflation, curbing corruption. Women are not safe in Congress government. Youth are unemployed and BJP took such problems and made various ads and slogans to attract voters.
Election commission had failed somewhere to maintain the secrecy of voting as we saw booth capturing cases in Etawah, Ferozabad . Rahul Gandhi was in EVM enclosure during voting hours in Amethi.

Image

Still Rahul Gandhi gets the clean chit, Amazing!!
Rahul Gandhi tried to attract the voters through various ads, shouting for toffee model, corruption and problem in UP but he forgets that UPA government in centre for 10years.
This election has created the awareness among youth and women that is why highest ever women had come out to vote. They had shown the power of 49. In order to look which party will form the government we have to wait till 16th may till then enjoy the post poll opinion in every news channel.

 

3 Comments »

Better late then never for Congress.

Narendra modi; BJP prime ministerial candidate filed nomination paper on Thursday for Varanasi lokh sabha election. Many people turnout to support the road rally of modi. It was estimated that more than 3 lakh people were there.

Image

Every political party has seen the power of Narendra modi and earlier also polls too estimated the formation of NDA government. The biggest rival party of BJP is congress. So congress is very agitated with the modi’s rally. In frustration Anand Sharma; congress person lodged complain against Narendra modi and media houses as during election phase they were projecting the modi’s nomination.
Congress is just wasting its own time in various forms. For congress it’s better to do something late, than to never do it at all. First congress should never declare Rahul Gandhi as prime ministerial candidate. It is because everyone considers him as “Shehzada” means prince. As he is born with silver spoon. Secondly the advertisement of congress is very poor in form.

Image

this advertisement were very popular in english newspaper and it was very unattractive. the advertisement of congress is totally failure. as it doesn’t holds the attention of readers mind.

They just telling to give easy loan to women but not discussing about the interest charge on it. As loan is also given by banks and moneylenders. Congress have to be more specific about there particular advertisements.

Image

Thirdly Rahul Gandhi in all rallies says that if they come in power then they will eradicate poverty, give employment and will give proper houses under Indira Awaz Yogna.
I would like to ask from congress that why they saying so? They are in center for 10years and why did not they do so in past? Why they want to do now? Are they seriously wanted to serve the people or its just election promises.
The biggest mistake congress does that it doesn’t come with priyanka Gandi in early time. She was missing during the early campaigns. Priyanka come at campaign for not more than one week. Till then most of the elections were done. Voters (Indian people) have sympathy with Priyanka Gandhi Vadra because she reassembles like Indira Gandhi.

Image

Priyanka is taken as responsible sister, daughter, mother and good wife. Priyanka Vadra is the last hope for the congress party. Priyanka Vadra is the one who is taking very seriously by opposition parties and media houses. Media had highlighted the priyanka speeches as she is the one who can lead the party to the victorious level or to the next door. These are the few mistakes of congress on which they are working.

1 Comment »